Mehfil Ajeeb Hai Na Yeh Manzar Ajeeb Hai

Mehfil Ajeeb Hai Na Yeh Manzar Ajeeb Hai

महफिल अजीब है, ना ये मंजर अजीब है,
जो उसने चलाया वो खंजर अजीब है,
ना डूबने देता है, ना उबरने देता है,
उसकी आँखों का वो समंदर अजीब है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *